An amount of one crore two lakh rupees was caught on the second day in the search operation, so far a total amount of two crore ten lakh rupees has been recovered | सर्च अभियान में दूसरे दिन पकड़ी एक करोड़ दो लाख रुपये की राशि, अब तक कुल दो करोड़ दस लाख रुपये की राशि बरामद

Haryana
0 0
Read Time:3 Minute, 45 Second


  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • An Amount Of One Crore Two Lakh Rupees Was Caught On The Second Day In The Search Operation, So Far A Total Amount Of Two Crore Ten Lakh Rupees Has Been Recovered

चंडीगढ़25 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
वीरवार शाम को कार्रवाई के बाद � - Dainik Bhaskar

वीरवार शाम को कार्रवाई के बाद �

हरियाणा पब्लिक सर्विस कमीशन के डिप्टी सेक्रेटरी अनिल नागर और उनके सहायक अश्विनी के पंचकूला आवास से शुक्रवार को एक करोड़ दो लाख रुपये की राशि बरामद की गई। विजिलेंस का यह सर्च अभियान वीरवार देर रात और शुक्रवार को चला। विजिलेंस ने आरोपी अधिकारी का चार दिन का रिमांड हासिल किया है।

शुक्रवार अलसुबह ही विजिलेंस ने पंचकूला में ड्यूटी मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया। विजिलेंस ने आरोपी एसएचसी का चार दिन का रिमांड हासिल किया। सर्च अभियान के दूसरे दिन विजिलेंस की टीम ने उसके सहायक अश्विवनी के पंचकूला आवास से 98 लाख रुपये की राशि बरामद की।

नागर के घर से 12 लाख रुपये कैश

विजिलेंस प्रवक्ता ने बताया कि सर्च अभियान में दूसरे दिन भी एचसीएस अधिकारी अनिल नागर के पंचकूला घर से करीब 12 लाख रुपये कैश, 50 लाख की कीमत की एक भूमि की रजिस्ट्रड लैंड, लेपटॉप और फोन बरामद किया है। जिसे सीज कर दिया गया है। मामले में अब तक दो करोड़ रुपये की राशि बरामद हो चुकी है। इससे पहले विजिलेंस ने झज्जर से अश्विनी के घर से करीब एक करोड़ आठ लाख रुपये बरामद किए थे।

कॉल डिटेल खंगाल रही विजिलेंस

विजिलेंस अब अनिल नागर की कॉल डिटेल खंगाल रही है। विजिलेंस इस बात का पड़ताल कर रही है कि आरोपी अनिल नागर के साथ इस मामले में कौन कौन शामिल है। कहीं इस गिरोह के तार एचएसएससी की भर्तियों से तो नहीं जुड़े।

ये था मामला

डेंटल सर्जन भर्ती में ओएमआर शीट खाली छोड़ने वालों का चयन करने के मामले में स्टेट ब्यूरो विजिलेंस ने वीरवार को हरियाणा पब्लिक सर्विस कमीशन के डिप्टी सेक्रेटरी अनिल नागर को 90 लाख रुपये के कैश के साथ वीरवार शाम को उनके कार्यालय से पकड़ा था। यह पैसा अनिल नागर का सहायक झज्जर निवासी अश्विनी देने के लिए पहुंचा था। क्योंकि विजिलेंस ने उसके घर से करीब एक करोड़ रुपये आठ लाख रुपये की राशि बरामद की थी। उसने खुलासा किया था कि इसमें से 90 लाख रुपये अनिल नागर के हिस्से के हैं। विजिलेंस के कहने पर वह पंचकूला कार्यालय में पैसे देने के लिए पहुंचा। अनिल नागर ने जब कैश लिया तो विजिलेंस ने उसे रंगे हाथों पकड़ लिया। इस मामले में सबसे पहले 17 नवंबर को भिवानी निवासी नवीन को पंचकूला में ही 20 लाख रुपये लेते पकड़ा था।

खबरें और भी हैं…



Source link

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *