Administration reached district jail | प्रत्येक बुधवार को मेडिकल कॉलेज से एक चर्म रोग विशेषज्ञ को दी मंजूरी, कैदियों से खाने, रहने समेत अन्य सुविधाओं जानी

Haryana
0 0
Read Time:6 Minute, 24 Second


करनालएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
जेल दौरे के दौरान डीसी निशांत व एसपी गंगाराम पुनिया। - Dainik Bhaskar

जेल दौरे के दौरान डीसी निशांत व एसपी गंगाराम पुनिया।

हरियाणा के जिले करनाल की जिला जेल का प्रशासन ने दौरा किया। उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने समेत अन्य अधिकारियों ने प्रबंधों, अनुशासन और कैदियों को दी जा रही सुविधाओं जानी। साथ ही एक अतिरिक्त ओपन एयर जिम (महिला कैदियों के लिए), पुस्तकालय के लिए उपयुक्त फर्नीचर, बास्केट बॉल कोर्ट में कोटा स्टोन लगवाने तथा प्रत्येक बुधवार को केसीजीएमसी से एक चर्म रोग विशेषज्ञ डॉक्टर भिजवाने की बात कही। साथ ही बैडमिंटन कोर्ट की जगह पक्की करवाई जाएगी। अतिरिक्त कम्प्यूटर सिस्टम की जरूरत को भी पूरी कर किया जाएगा। जेल अधीक्षक अमित भादू की तरफ से इन सुविधाओं की मांग की गई थी, जाहिर है कि इनसे जेल सुविधाओं में और इजाफा होगा। निरीक्षण में पुलिस अधीक्षक गंगाराम पुनिया तथा एसीयूटी प्रदीप सिंह अतिरिक्त एसएमओ डॉ. महेश मेहरा मौजूद रहे।

कैदियों के लिए बनाई गई बैरक में करीब 10 जगहों का निरीक्षण किया। वहां मौजूद कैदियों से, कोई दिक्कत हो तो बताओं यह भी पूछा, खाना कैसा मिलता है इसकी भी जानकारी ली। निरीक्षण में उपायुक्त ने सबसे पहले मुलाकाती कक्ष में कैदियों द्वारा अपने परिजनों से फोन पर बात करने की सुविधा देखी। पहले यह 15 दिन के लिए थी। अब कोविड के बाद महिने में एक बार बात कर सकते है। वैसे रोजाना के लिए अलग जगह पर एक क्योस्क भी लगाया गया है, इस पर कैदी 5 मिनट बात कर सकते है।

जेल में जानकारी हासिल करते हुए प्रशासनिक अधिकारी।

जेल में जानकारी हासिल करते हुए प्रशासनिक अधिकारी।

घोघड़ीपुर गांव के एक कैदी की दरख्वास्त के आधार पर मौके पर ही पैरोल मंजूर कर दी।

एक महिला कैदी जो करनाल से सिरसा जेल स्थानांतरित होने की मांग कर रही थी, उसकी भी फरियाद सुनी।

जेल अधीक्षक ने उपायुक्त को बताया कि करनाल जेल के पौष्टिक आहार या भोजन की अक्सर प्रदेश के दूसरे जिलों में चर्चा होती है। वैसे कैदी अपनी इच्छानुसार जेल में स्थापित कैंटीन से भी रोजाना जरूरत के सामान के साथ-साथ फल, सब्जी और मिठाई आदि भी खरीद सकते है, जो प्रिंट रेट से ज्यादा दाम पर नहीं दी जाती। जेल को इससे जो लाभ होता है, वह एक वेलफेयर फंड में जमा हो जाता है, जो कैदियों की सुविधाओं पर ही खर्च होता है। इस फंड में अब डेढ़ करोड़ रूपये जमा है।

एफएम की जानकारी लेते डीसी।

एफएम की जानकारी लेते डीसी।

महिला व पुरूष कैदियों की अलग-अलग बैरक देखी

उपायुक्त ने इस दौरान महिला व पुरूषों के लिए बनाई गई अलग-अलग बैरक देखी। इनमें कठोर सजायाफ्ता, साधारण सजा वाले बैंकिंग से जुड़े सिविल परिजनर, विचाराधीन कैदी, बाहर (बांग्लोदेसी व कश्मीरी) से आए कैदी तथा किन्नर कैदियों के कक्षों का निरीक्षण किया। महिलाओं के बैरक में 3 छोटे बच्चे भी मिले। उनके लिए जेल में ही लर्निंग और मनोरजंन की सुविधा मौजूद रही। महिलाओं के लिए एक सिलाई केन्द्र भी स्थापित मिला। इस दौरान उपायुक्त ने सुरक्षा वार्ड यानी चक्की जेल का निरीक्षण किया, इसमें बांग्लादेसी व कश्मीरी कैदी मिले, जो अनाधिकृत रूप से सीमा पार करने तथा पत्थर मारने के दोष में सजा काट रहे है।

जेल रेडियो कक्ष का किया निरीक्षण

उपायुक्त ने जेल में बनाए गए एफएम जेल रेडियो का निरीक्षण किया। कैदियों के लिए यहां से रोजाना फिल्मी गाने, भक्ति संगीत और फरमाईश के गाने प्रसारित किए जाते है। जेल अस्पताल के साथ मनोरोग विशेषज्ञ के विजिट की भी सुविधा जेल में मौजूद कराई गई है। मंदिर और गुरूद्वारा भी जेल में ही बनाए गए है।

48 एकड़ में है जेल की बाउंड्री

जेल अधीक्षक ने बताया कि बाउंड्री के अंदर 48 एकड़ में जेल स्थापित है। आवासीय स्थल मिलाकर यह 80 एकड़ जगह में है। जिला जेल का उद्घाटन 2004 में हुआ था और 2005 में इसमें कैदियों की शुरूआत हो गई थी। वर्तमान में जिला जेल में 1787 कैदी सजा काट रहे है। जिनमें 1730 पुरूष व 57 महिलाएं है। वैसे अधिकृत क्षमता 2434 की है। जेल स्टाफ की बात करे तो जेल अधीक्षक के अतिरिक्त 3 उपाधीक्षक, 3 सहायक उपाधीक्षक, 118 वार्डर निगरानी के लिए तैनात है। निरीक्षण से पहले उपायुक्त ने जेल अधीक्षक से पैरोल और फरलो पर जाने वाले कैदियों बारे भी जानकारी ली।

खबरें और भी हैं…



Source link

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *