Will take stock of Cancer Tertiary Care Center built at a cost of 63 crores, there will be discussion about the opening of the building | 63 करोड़ की लागत से बने कैंसर टर्सरी केयर सेंटर का लेंगे जायजा, बिल्डिंग के शुभारंभ को लेकर होगी चर्चा

Haryana
0 0
Read Time:3 Minute, 38 Second


  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • Will Take Stock Of Cancer Tertiary Care Center Built At A Cost Of 63 Crores, There Will Be Discussion About The Opening Of The Building

अंबालाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
अंबाला कैंट सिविल अस्पताल का गेट - Dainik Bhaskar

अंबाला कैंट सिविल अस्पताल का गेट

हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के गृह क्षेत्र अंबाल कैंट सिविल अस्पताल में 63 करोड़ की लागत से कैंसर टर्सरी केयर सेंटर बन चुका है। केवल एटामिक एनर्जी बोर्ड की अनुमति व कुछ मशीनों के न आने के कारण बिल्डिंग शुरू नहीं हो पा रही है। आज गृहमंत्री अनिल विज खुद कैंसर बिल्डिंग का निरीक्षण करेंगे। अस्पताल में भी उनके आने की सूचना पर अस्पताल प्रबंधन पूरी तरह से अलर्ट हो गया है।

कुछ दिन पहले भी मंत्री अनिल विज के निरीक्षण को लेकर तैयारियां चली थी लेकिन वह नहीं आ सके थे। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक उम्मीद जताई जा रही है कि नए साल पर इस बिल्डिंग के शुरू होने का तोहफा अंबालावासियों को मिल सकता है।

कैंसर बिल्डिंग के नोडल अधिकारी डॉ. विनय गोयल ने बताया कि इस टर्सरी केयर सेंटर में कैंसर के सभी प्रकार के मरीजों के उपचार और देखभाल की सुविधा उपलब्ध होगी। इसमें कैमिकल, रेडियोग्राफी और सर्जरी सहित अन्य कई प्रकार की सुविधाएं शामिल हैं। यह प्रदेश का ऐसा पहला सरकारी कैंसर सेंटर होगा जहां आसपास के भी 50 लाख तक के मरीजों को उपचार की सुविधा उपलब्ध होगी। कर जायजा लेंगे।

एटामिक एनर्जी बोर्ड की अनुमति से चलती है कैंसर की मशीनें
तमाम तैयारियां पुरी होने के बाद अब भारत सरकार के एटामिक एनर्जी बोर्ड से स्वीकृति मिलने का इंतजार है। इसके लिए कैंसर सेंटर के रेडियेशन सेफ्टी अधिकारी ने एटामिक एनर्जी बोर्ड को तमाम जानकारी भिजवा दी है। यहां तक कि अनुमति मिलने के चौथे चरण तक की प्रक्रिया भी लगभग पूरी हो चुकी है।
पिछले दिनों चंडीगढ़ से सेंटर का निरीक्षण करने के लिए डिप्टी डायरेक्टर डॉ. रेखा सिंह और पीजीआइ चंडीगढ़ के चिकित्सकों की टीम आई थी। साथ ही अपनी रिपोर्ट से सरकार को अवगत करा दिया है। अब एआरबी से सेंटर को शुरू करने से पहले रेडियेशन सेफ्टी अधिकारियों की टीम कैंसर टर्सरी सेंटर का निरीक्षण करके अपनी रिपोर्ट देगी, उसके बाद अगर सबकुछ ठीक रहा तभी अस्पताल को शुरू करने की अनुमति मिलेगी।

करोड़ों की मशीनों से लैस होगा कैंसर सेंटर

  • हाई एनर्जी लीनियर एक्सीलेरेटर मशीन – लगभग 22 करोड़ रुपए
  • ब्रेकी थिरेपी मशीन – लगभग 9 करोड़ रुपए
  • सीटी सीमूलेटर – लगभग 6 करोड़ रुपए

खबरें और भी हैं…



Source link

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *