Liquor smuggled under the guise of wall putty, was being loaded in trucks and taken from Haryana to Gujarat | वॉल पुट्टी की आड़ में शराब की तस्करी, ट्रक में भरकर हरियाणा से गुजरात ले जाई जा रही थी

Haryana
0 0
Read Time:2 Minute, 39 Second


अलवर41 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
अवैध शराब से भरा ट्रक। - Dainik Bhaskar

अवैध शराब से भरा ट्रक।

आबकारी पुलिस ने अलवर शहर में शुक्रवार सुबह 80 लाख रुपए की अवैध शराब से भरे ट्रक को पकड़ा। शराब हरियाणा से गुजरात ले जाई जा रही थी। ट्रक में वॉल पुट्टी की आड़ में शराब की तस्करी सामने आई है। जिसमें वाल पुट्टी के्र कट्टे भरे थे। नीचे भी वॉल पुट्टी जमी थी। ताकि शराब लीक होने पर बदबू नही आए और बाहर नहीं फैले। आबकारी पुलिस की यह बड़ी कार्रवाई है। पुलिस ने अवैध शराब जब्त कर ली है। ड्राइवर सांचोर सीकर निवासी मंगलाराम को गिरफ्तार कर लिया है।

अवैध शराब के ट्रक को खाली कराते हुए।

अवैध शराब के ट्रक को खाली कराते हुए।

835 पेटी शराब, तीन ब्रांड
ट्रक में कुल 835अंग्रेजी शराब की पेटियां मिली हैं। जिनकी राजस्थान के बाजार भाव के अनुसार करीब 80 लाख रुपए कीमत है। हरियाणा में कीमत कम है। वहीं यही शराब गुजरात में दोगुना दामों तक बिक जाती है। असल में गुजरात में शराब बंद है। इस कारण वहां महंगी बिकती है। इसी कारण स्मग्लर गुजरात में अवैध शराबपहुंचाते हैं।

ड्राइवर बोला उसे तो बॉर्डर से ट्रक थमाया
ड्राइवर मंगलाराम ने बताया कि उसे तो बॉर्डरपर ट्रक थमाया गया था। यह कहा गया कि इसे ग्वालियर पहुंचाना है। इसके लिए मुझे 30 हजार रुपए दिए गए थे। मुझे नहीं पता कि शराब कहां से भेजी और किसने भेजी है। डीएसपी अजय यादव व आबकारी अधिकारी उम्मेदी लाल ने बताया कि स्मग्लर बीच-बीच में ड्राइवर चेंज करा देते हैं। जिसके पीछे उनकी सोच यही है कि पुलिस को पता नहीं लगे कि अवैध शराब कहां से आई। पुट्टी की अवैध बिल्टी होती है। करीब 80 लाख रुपए की अवैध शराब मिली है। इससे पहले भी अलवर आबकारी ने बड़ी कार्रवाई की है। कच्ची शराब की वाश नष्ट करने की कई बार बड़ी कार्रवाई की जा चुकी है। आगे भी यह सतत जारी रहेगा।

खबरें और भी हैं…



Source link

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *